जमानत के शर्तो का उलंघन करने पर सजा Section 229A IPC in hindi

134

जब कोर्ट के द्वारा किसी अपराधी को जमानत दी जाती है तो उसे कुछ शर्तो को शाक्त रूप से पालन करने का निर्देश दिया जाता है। जमानत के शर्तो में आमतौर पर होने वाले शर्त जैसे की तारीख पर पेश होना, विपक्षी पार्टी अथवा गवाह को किसी प्रकार का धमकी न देना, सबूतों को छेडछाड़ न करना, देश छोड़कर नहीं जाना, bail bond भरना आदि होता है।

Section 229A IPC

भारतीय दंड संहिता की धारा 229A के अंतर्गत यदि कोई अपराधी जो न्यायलय द्वारा जमानत पर छूटा है और जानबूझकर बिना किसी उचित कारन के case के तारीख पर पेश नहीं होता है अथवा किसी प्रकार से जमानत के शर्तो का उलंघन करता है तो कोर्ट द्वारा उसकी जमानत को रद्द किया जा सकता है और वह section 229a IPC के अंतर्गत दोषी होगा।

जमानत के शर्तो का उलंघन करने पर दंड का प्रावधान 

जब कोई व्यक्ति जमानत के शर्तो का उलंघन करता है तो उसपर IPC Section 229A के अंतर्गत मामला दर्ज किया जाता है। यह अपराध संज्ञेय एवं अजमानतीय अपराध होता है। इस अपराध के लिए एक साल तक की सजा अथवा जुर्माना अथवा दोनों हो सकता है।

यह भी जानें:

Previous articleDifference between LOC and LAC | LOC और LAC में अन्तर
Next articleथाने से जमानत कब और कैसे लिया जाता है
इस वेबसाइट का मुख्य उद्देश्य लोगों को कानून के बारे जानकारी देना, जागरूक करना तथा कानूनी न्याय दिलाने में मदद करने हेतु बनाया गया है। इस वेबसाइट पर भारतीय कानून, न्याय प्रणाली, शिक्षा से संबंधित सभी जानकारीयाँ प्रकाशित कि जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here