Zero F.I.R क्या होता है ?

1846
print

Zero F.I.R क्या होता है?

जीरो F.I.R को जानने से पहले यह जानना जरूरी है कि किस तरह के मामलों में केस दर्ज की जा सकती है।

अपराध दो तरह के होते हैं-

1. असंज्ञेय अपराध ( Non-Cognizable Offence)

2. संज्ञेय अपराध  ( Cognizable Offence)

असंज्ञेय अपराध  (Non-Cognizable Offence)

असंज्ञेय अपराध से तात्पर्य मामूली अपराध अर्थात मामूली मारपीट आदि से है। इसमें सिधे तौर पर F.I.R दर्ज नहीं की जा सकती है, बल्कि शिकायत को मजिस्ट्रेट के पास भेजा जाता है फिर मजिस्ट्रेट के द्वारा आरोपी को समन जारी किया जाता है तथा उसके बाद मामला शुरू होता है।

इस तरह के मामलों में जुरिस्डिक्शन हो या नहीं हो किसी भी स्थिति में केस दर्ज नहीं हो सकता।

संज्ञेय अपराध  (Cognizable Offence)

संज्ञेय अपराध से तात्पर्य गंभीर किस्म के अपराध से है अर्थात मर्डर, रेप, गोली चलाना आदि संज्ञेय अपराध होता है।

इस तरह के मामलों में सीधे F.I.R दर्ज करायी जा सकती है। Cr.P.C की धारा 154 पुलिस को संज्ञेय अपराध में सीधे तौर पर F.I.R दर्ज करने का निर्देश देता है।

यदि पिड़ित के साथ किया गया अपराध उस पुलिस थाने के Jurisdiction में नहीं हुआ हो तब भी पुलिस को F.I.R दर्ज करना होगा।

कोई भी पिड़ित व्यक्ति किसी भी पुलिस थाने में पहुँचता तो पुलिस कि पहली ड्यूटी होती है कि वह F.I.R दर्ज कर उसकी छानबीन करे तथा सबूतों को एकजुट करें।

जीरो F.I.R –

जीरो FIR से तात्पर्य जब पिड़ित के खिलाफ हुए संज्ञेय अपराध के बारे में घटनास्थल से बाहर के पुलिस थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई जाती है तो यह zero FIR होता है।

इसमें घटना की अपराध संख्या दर्ज नहीं की जाती। संज्ञेय अपराध होने की दशा में घटना की FIR किसी भी जिले के किसी भी पुलिस थाने में दर्ज कराई जा सकती है। यह मुकदमा घटना वाले स्थान पर दर्ज नहीं होता इसलिए तत्काल वाद संख्या नहीं दिया जाता है।

FIR दर्ज करते समय आगे की कार्यवाई को सरल बनाने हेतु इस बात का ध्यान रखा जाता है कि इसकी शिकायत घटनास्थल वाले पुलिस थाने में ही हो परंतु कभी कभी पिड़ित को घटनास्थल के किसी बाहरी पुलिस थाने में भी FIR दर्ज करने की जरूरत पड़ जाती है। पिड़ित व्यक्ति अविलंब कार्रवाई हेतु किसी भी पुलिस थाने में अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है।

उद्देश्य

Zero FIR का उद्देश्य यह है कि किसी भी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कर मामले की जांच शुरू की जाए और सबूत एकजुट किए जाए क्योंकि शिकायत दर्ज नहीं होने की स्थिति में सबूत नष्ट होने का खतरा रहता है।

कब करें Zero FIR?

हत्या, एक्सीडेंट, रेप जैसे अपराध कहीं भी हो सकती है। अतः ऐसे मामलो में तुरंत कार्रवाई हेतु किसी भी पुलिस थाने में FIT दर्ज कराई जा सकती है क्योंकि बिना FIR के पुलिस घटना से संबंधित कार्यवाई करने के लिए बाध्य नहीं होता।

FIR दर्ज होने के बाद कानूनी प्रक्रिया को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी पुलिस की होती है।

कैसे करें Zero FIR?

सामान्य FIR की तरह ही Zero FIR भी लिखित व मौखिक में कराई जा सकती है। यदि आप चाहें तो पुलिस द्वारा रिपोर्ट को पढने का अनुरोध कर सकते हैं।

SHARE
Previous articleजमानत के प्रावधान
Next articleरिट याचिका/ Writ Petition in India
इस वेबसाइट का मुख्य उद्देश्य लोगों को कानून के बारे जानकारी देना, जागरूक करना तथा कानूनी न्याय दिलाने में मदद करने हेतु बनाया गया है। इस वेबसाइट पर भारतीय कानून, न्याय प्रणाली, शिक्षा से संबंधित सभी जानकारीयाँ प्रकाशित कि जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here