print

पावर आॅफ अटार्नी क्या है ?

पावर आॅफ अटार्नी एक ऐसा दस्तावेज है जिसके जरिए कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को अपनी संपत्ति के बारे में निर्णय लेने का अधिकार देता है।

दूसरे शब्दों में कहें तो पावर आॅफ अटार्नी एक प्रकार का न्यायिक अधिकार पत्र होता है जो property के मालिकाना हक वाले व्यक्ति के बदले में किसी दूसरे व्यक्ति को कानूनी या व्यवसायिक निर्णय लेने के लिए अधिकृत करता है।

 Power of Attorney Act 1882 के अनुसार ऐसा documents जिसके द्वारा कोई व्यक्ति किसी दूसरे को अपना कानूनी प्रतिनिधि घोषित करता है।

पावर आॅफ अटार्नी घोषित करने वाले व्यक्ति को principal तथा घोषित व्यक्ति को agent कहा जाता है।

Power of Attorney से अधिकृत व्यक्ति उस property से संबंधित निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र होता है।

यहाँ ध्यान देने वाली बात यह भी है कि property के अलावा बैंक खाते, शेयरों तथा म्यूचुअल फंड आदि के लिए भी Power of Attorney दिया जा सकता है।

पावर आॅफ अटार्नी दो प्रकार के होते हैं-

1. जनरल पावर आॅफ अटार्नी ( G.P.A )

2. स्पेशल पावर आॅफ अटार्नी ( S.P.A )

जनरल पावर आॅफ अटार्नी के तहत attorney के पास सभी तरह के फैसले लेने का अधिकार होता है जबकि, स्पेशल पावर आॅफ अटार्नी के तहत attorney को किसी खास काम के लिए अधिकृत किया जाता है।

Durable Power of Attorney

इसमें principal लिख देता है कि principal के अक्षम हो जाने पर भी Power of Attorney जारी रहेगा लेकिन principal के मृत्यु के पश्चात इसकी वैधता खत्म हो जाती है।

इसे Health Care Power of Attorney भी कहा जाता है।

Power of Attorney किसी अचल संपत्ति के मालिकाना हक को transfer करने के लिए तैयार किया जा सकता है।

रजिस्ट्री के बदले Power of Attorney का इस्तेमाल प्रायः उस समय किया जाता है जब property का मालिक कोर्ट में जाने में सक्षम नहीं हो परंतु मालिक (principal) का स्वस्थ मस्तिष्क का होना आवश्यक होता है।

सावधानियाँ

Power of Attorney देते समय आप अपनी संपत्ति किसी दूसरे के नाम कर कर रहे होते हैं अतः यह कभी भी ऐसे व्यक्ति को न दें जिस पर आपका विश्वास न हो।

Power of Attorney कैसे तैयार किया जाता है

पावर आॅफ अटार्नी बनाने के कानून देश के विभिन्न राज्यों में अलग-अलग है। 100 रुपए से 1000 रुपए तक के non-judicial stamp पेपर पर Power of Attorney बनाया जाता है।

Power of Attorney बनाते समय Principal, Agent के साथ-साथ दो गवाहों के भी हस्ताक्षर करने होते हैं।

समय सीमा

Power of Attorney कि समय सीमा 1 वर्ष की होती है। यदी 1 वर्ष के अंदर agent किसी प्रकार का दूरूप्योग करने लगे तो इस स्थिति में न्यायालय में शिकायत दर्ज की जा सकती है।

समय के पहले power of Attorney को रद्द भी किया जा सकता है।

विदेश में पावर आॅफ अटार्नी

Power of Attorney देश से बाहर भी कराया जा सकता है परंतु यदि देश के बाहर कराया गया है तो देश आने से तीन माह के अंदर इसे district magistrate से मान्यता दिलाना आवश्यक होता ह

अगर कोई व्यक्ति विदेश में रहता है और बगैर भारत आए अपनी संपत्ति को बेचना चाहता है तो ऐसे में power of Attorney तैयार कर उसे notarized करा सकता है।

SHARE
Previous articleलाभ के पद/office of profit
Next articleशेडवेल बनाम शेडवेल
इस वेबसाइट का मुख्य उद्देश्य लोगों को कानून के बारे जानकारी देना, जागरूक करना तथा कानूनी न्याय दिलाने में मदद करने हेतु बनाया गया है। इस वेबसाइट पर भारतीय कानून, न्याय प्रणाली, शिक्षा से संबंधित सभी जानकारीयाँ प्रकाशित कि जाती है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here