IPC Sec 30 in Hindi | धारा 30

भारतीय दण्ड संहिता धारा 30 (IPC Section 30) – मूल्यवान प्रतिभूति।

विस्तार – भारतीय दंड संहिता की धारा 30 के अनुसार, मूल्यवान प्रतिभूति शब्द उस दस्तावेज के द्योतक हैं, जो ऐसा दस्तावेज है, या होना तात्पर्यित है, जिसके द्वारा कोई क़ानूनी अधिकार सॄजित, विस्तॄत, स्थानांतरित, सीमित, नष्ट किया जाए या छोड़ा जाए या जिसके द्वारा कोई व्यक्ति यह स्वीकार करता है कि वह क़ानूनी दायित्व के अधीन है, या कोई क़ानूनी अधिकार नहीं रखता है।

 

यह भी जानें: