IPC Sec 270 in Hindi | धारा 270

भारतीय दण्ड संहिता धारा 270 (IPC Section 270) – परिद्वेषपूर्ण कार्य, जिससे जीवन के लिए संकटपूर्ण रोग का संक्रम फैलना संभाव्य हो

विस्तार – भारतीय दंड संहिता की धारा 270 के अनुसार, जो कोई परिद्वेष से ऐसा कोई कार्य करेगा जिससे कि, और जिससे वह जानता या विश्वास करने का कारण रखता हो कि, जीवन के लिए संकटपूर्ण किसी रोक का संक्रम फैलना संभाव्य है, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दो वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दंडित किया जाएगा।

अपराध – घातक किसी भी जीवन के लिए खतरनाक किसी भी बीमारी के संक्रमण के प्रसार की संभावना होने के लिए जाना जाता कार्य कर रही है (संज्ञेय)।

सजा – 2 साल या जुर्माना या दोनों।

 

यह भी जानें: