पावर आॅफ अटार्नी | Power of Attorney |

8637

Power of Attorney  क्या है ?

Power of Attorney एक ऐसा दस्तावेज है जिसके जरिए कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को अपनी संपत्ति के बारे में निर्णय लेने का अधिकार देता है।

दूसरे शब्दों में कहें तो पावर आॅफ अटार्नी एक प्रकार का न्यायिक अधिकार पत्र होता है, जो property के मालिकाना हक वाले व्यक्ति के बदले में किसी दूसरे व्यक्ति को कानूनी या व्यवसायिक निर्णय लेने के लिए अधिकृत करता है।

 Power of Attorney Act 1882 के अनुसार ऐसा documents जिसके द्वारा कोई व्यक्ति किसी दूसरे को अपना कानूनी प्रतिनिधि घोषित करता है।

पावर आॅफ अटार्नी घोषित करने वाले व्यक्ति को principal तथा घोषित व्यक्ति को agent कहा जाता है।

Power of Attorney से अधिकृत व्यक्ति उस property से संबंधित निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र होता है।

यहाँ ध्यान देने वाली बात यह भी है कि property के अलावा बैंक खाते, शेयरों तथा म्यूचुअल फंड आदि के लिए भी Power of Attorney दिया जा सकता है।

पावर आॅफ अटार्नी दो प्रकार के होते हैं-

1. जनरल पावर आॅफ अटार्नी ( G.P.A )

2. स्पेशल पावर आॅफ अटार्नी ( S.P.A )

जनरल पावर आॅफ अटार्नी के तहत attorney के पास सभी तरह के फैसले लेने का अधिकार होता है जबकि, स्पेशल पावर आॅफ अटार्नी के तहत attorney को किसी खास काम के लिए अधिकृत किया जाता है।

Durable Power of Attorney

इसमें principal लिख देता है कि principal के अक्षम हो जाने पर भी Power of Attorney जारी रहेगा लेकिन principal के मृत्यु के पश्चात इसकी वैधता खत्म हो जाती है।

इसे Health Care Power of Attorney भी कहा जाता है।

Power of Attorney किसी अचल संपत्ति के मालिकाना हक को transfer करने के लिए तैयार किया जा सकता है।

रजिस्ट्री के बदले Power of Attorney का इस्तेमाल प्रायः उस समय किया जाता है जब property का मालिक कोर्ट में जाने में सक्षम नहीं हो परंतु मालिक (principal) का स्वस्थ मस्तिष्क का होना आवश्यक होता है।

सावधानियाँ

Power of Attorney देते समय आप अपनी संपत्ति किसी दूसरे के नाम कर कर रहे होते हैं अतः यह कभी भी ऐसे व्यक्ति को न दें जिस पर आपका विश्वास न हो।

Power of Attorney कैसे तैयार किया जाता है

पावर आॅफ अटार्नी बनाने के कानून देश के विभिन्न राज्यों में अलग-अलग है। 100 रुपए से 1000 रुपए तक के non-judicial stamp पेपर पर Power of Attorney बनाया जाता है।

Power of Attorney बनाते समय Principal, Agent के साथ-साथ दो गवाहों के भी हस्ताक्षर करने होते हैं।

समय सीमा

Power of Attorney कि समय सीमा 1 वर्ष की होती है। यदी 1 वर्ष के अंदर agent किसी प्रकार का दूरूप्योग करने लगे तो इस स्थिति में न्यायालय में शिकायत दर्ज की जा सकती है।

समय के पहले power of Attorney को रद्द भी किया जा सकता है।

विदेश में पावर आॅफ अटार्नी

Power of Attorney देश से बाहर भी कराया जा सकता है परंतु यदि देश के बाहर कराया गया है तो देश आने से तीन माह के अंदर इसे district magistrate से मान्यता दिलाना आवश्यक होता है।

अगर कोई व्यक्ति विदेश में रहता है और बगैर भारत आए अपनी संपत्ति को बेचना चाहता है तो ऐसे में power of Attorney तैयार कर उसे notarized करा सकता है।

 

18 COMMENTS

  1. sir mere uncle ke jamen ko mere father bes suke woh admi ab homlogo ko bahat parisan karta hai kabhi us jamin par school kabhi cow house abhi hud kar di usne hamare gaon ke ladki ko ghar banake de raha hai ab hum kya kare pleas help kijiye

  2. जिस व्यक्ति के नाम पावर ऑफ अटॉर्नी करता ने पावर ऑफ अटॉर्नी कर दी है तो क्या वह व्यक्ति जिसके नाम संपत्ति नाम की गई है वह स्वयं ही अपने नाम पावर ऑफ अटॉर्नी वाली संपत्ति को कर सकता है क्या आपने नाम जैसे उदाहरण के तौर पर राम पावर ऑफ अटॉर्नी करता है और श्याम पावर ऑफ अटॉर्नी अपने पक्ष में करवा रहा है तो क्या श्याम उस संपत्ति को अपने ही नाम कर सकता है क्या पावर ऑफ अटॉर्नी हो जाने के बाद

    • जो व्यक्ति पॉवर ऑफ अटॉर्नी करता है, उसके मृत्यु के बाद जिसके नाम करता है, संपत्ति उसका हो जाएगा।

  3. Sir mere father ke nam se 90gaj ki property h jisme ki 45 gaj ki general power of attorney kisi lady ke nam kar dia h our father ki deth ho gai h. Aur pure 90 gaj per lady ka kabja h, property ka kagaj bhi hamare pas nahi h,to kia hum 45 gaj ka haqdar h pls help sir

    • हा , आप 45 गज जमीन के हक़दार हैं, आप जमीन पर आपसी समझौते से या कानूनी प्रक्रिया से दखल कर सकते हैं

  4. मेरी माता ने मेरे नाम से मुखता र मा किया है क्या में उस जमीन को अपने नाम पंजीकृत कर सकता हूं

    • आपके माता के नाम का जमीन आपका ही होगा, पंजीकृत करने की आवश्यक्ता नहीं है

  5. Sir me indore me rhta hu or indore me mere ankal ki jamin he or mere ankal mharashtra me rhte he aab jo indore me jamin he wo mere name pe me karwana cahta hu lekin mere ankal indore nhi aa sakte he to wo kya maharashtra she mere name kar sakte he kya

  6. Sir agr kise se power of attorney la lu to usame ya bhi likha ho ki meri mertu ka baad bhi power of attorney inhi ka naam rha to wo ho sakta hai

    • पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी करने वाले की मृत्यु के बाद जिसके नाम करता है उसका उस पर अधिकार हो जाता है, उसमें ये लिखने की जरूरत नहीं है।

  7. sir mere papa ne 1987 me meri mummy ke naam ek plot khareeda tha, jis admi se humne plot khrida , uski mummy ne use PoA de rakkhi thi , jab , jab registrar office me plot ki registry hui to vo mahila vaha maujood thi , Ab uss admi ne jiske naam mukhtarnama hai , usne vo plot kisi aur admi ko bech diya , jisko usne plot becha ab vo admi bol raha hai ki tumhari registry galat hai , kyoki Principal ne registry me na sign kiye ,na hi principal 5 unglio ke nishan diye aur na hi principal ki photo lagi , ab sir mai kya karu plse help me…

    • जब P.O.A करने वाली महिला वहाँ मौजूद थी तो उसका लड़का आपको रजिस्ट्री कैसे कर सकता है?

  8. Sir hmara pushteni house h us me 4 hissedar h. Ek hissedar power of attorney apne naam krna chah rha h ki woh us ko sell out kr ske .
    Problem is kya P.O.A. us k naam krne se dusre 3 hissedar ka malikana haq samapt ho jayega ??

    • P.O.A करने से दूसरे हिस्सेदार का हिस्सा रहेगा। जो POA करेगा वह सिर्फ अपना हिस्सा कर सकता है।

  9. Hello sir
    Sir humare dada per dada Ki property thi.. Unhone Aisi hi chhod rkhi thi h Kaafi time Se. Kisi ko btaya Nhi unhone..or sir Unke paper wgera Kuch nhi h…or dada Ki death Ho chuki h toh. But sir us Propety me govt Ne water bor kra tha or usme paani nhi aaya Toh Aise hi chhod diya Vo toh sir us property Pe Humara hi haq h na??

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here